HINDI SECTION

रूस के सामने झुकने पर मजबूर हुआ यूरोप

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक़, यूरोप की 20 कंपनियों ने रूस से गैस की आपूर्ति के लिए मॉसको की शर्तों को मानते हुए गैज़प्रॉम बैंक में रूबल में भुगतान के लिए खाता खोल लिया है।

ब्लूमबर्ग ने रूस की बड़ी ऊर्जा कंपनी गैज़प्रॉम के एक निकट सूत्र के हवाले से बताया है कि अब तक यूरोप की 20 कंपनियां गैज़प्रॉम बैंक में अकाउंट खोल चकी हैं।

ग़ौरतलब है कि 24 फ़रवरी को यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद, अमरीका और यूरोपीय देशों ने मॉस्को पर कड़े प्रतिबंध लागू कर दिए थे, जिसके बाद रूस ने ग़ैर-मित्र देशों को गैस और तेल की आपूर्ति के भुगतान के लिए यह खाता खुलवाने की शर्त रखी थी।

सूत्रों का कहना है कि शुरूआत में यूरोपीय देशों ने इस शर्त को यह कहते हुए मानने से इंकार कर दिया था कि इससे रूस के ख़िलाफ़ लगे प्रतिबंधों का उल्लंघन होगा, लेकिन ऊर्जा की ज़रूरतों को देखते हुए और रूसी ऊर्जा का कोई विकल्प तलाश नहीं कर पाने के कारण, यूरोपीय देश मॉस्को की मांगों के सामने झुकने लगे हैं।

यूरोपीय देशों ने वर्ष 2019 में कुल प्राकृतिक गैस आयात में से 41 फ़ीसदी रूस से ही आयात की थी।

Facebook Comments Box